आजाद पन्ना

आपन टिप्पणी एहिजा लिखल करीं.

(एह पन्ना पर टटका खबर के पाठक पाठिका लोग आपन राय जाहिर क सकेला. कवनो टिप्पणी के प्रकाशित होखे से पहिले ओकरा के जाँचल जाई आ गलत सलत टिप्पणी के हटा दिहल जाई. )


इन्द्रविद्यावाचस्पति तिवारी के नाम से 15 अगस्त 2015 का दिने भेजल खबर :

बलिया। सागर पाली से बैरिया तक जावे वाला मार्ग एक दम से टांग टुूड़ावे वाला बा यदि आप इससे गुजर जाई त रउरा पैदल चल तानी त हो सकेला कि कहीं ना कहीं जरूर ठोकर खाई जाईब अइसने राह पर येह इलाका के गांवन के लोग चले के बिबस बा। येह राह के इ बारे में विशेष बात इ बा कि येह पर राजनीति कइके वर्तमान विधायक ये इलाका से भरपूर समर्थन पवले या पूर्व विधायक जो ओकरा पहले कभी मंत्री रहले अंततः चुनाव हार गइले।
एकरा बारे में जानकारी इ बा कि बघेजी, गंगहरा, थम्हनपुरा, हसनपुरा , इन्द्रपुर, भिखारीपुर, अंजोरपुर, मझरिया, कोट, मिलकी, मठिया, इच्छाचैबे के पुरा सहित लगभग दर्जन भर गांवन के लोग का जिला मुख्यालय पर आवे जाये के बा । लेकिन प्रशासन आ जनसेवक के कानपर जूं नइखे रेंगत। एकरा बारे में अनेक बार धरना प्रदर्शन के साथ ही विधायक जी द्वारा अपना कपारे ईट के खांची उठाके सड़क के गडढा पाटे के कोशिश कईल गईल लेकिन इलाकाई जनता के दुख में कवनो कमी ना आइल बल्कि अउर बढीये गइल।
जनता के आशा के बिन्दू प्रशासन का काम से जनमानस में इ धारणा बइठ गइल बा कि जनसेवक गण अपना स्वार्थ साधन के खातिर ये रास्ता के सुधार नइख होखे देत जवना पर इलाकाई जन अबकी के आवे आला चुनाव में अइसन सबक सिखइहन जा की जबन ऐतिहासिक होई ।
प्रशासन चेत के अबसे भी ऐ तरफ ध्यान दीहित त एइजा के लोगन के बड़ा कल्याण होइत।

2 thoughts on “आजाद पन्ना

  1. एगो बात कहे के चाहत बानी रउवा से , वोइसे त हम बीरगंज नेपाल से बानी पता ना रउवा सुनले होखब की ना , माकिर हमरा बहोत खुसी होखेला अपने के पेज पर आके काहेकी जैसे आपने कहनी ना की के बा पढेवाला आ केकरा के सुनायी , जी यी सब सुन के बहोत दुःख लागेला माकिर तेपरो रउवा के जज्बा देखके खुसी लागेला काहेकी केहू ना भईला पर भी अपने एतना प्रयास करनी , कास आपने के और दर्शक मिलित …माकिर एक बात कहब यी स्थिति खली इंडिया में ही बा हमनी के नेपाल में नइखे , हम भी एक भोजपुरी पेज चलावेनी फेसबुक पर (www.facebook.com/hamarbirgunjapanbirgunj ) आ ईगो भोजपुरी वेबसाइट भी बा (www.hamarbirgunjapanbirgunj.wordpress.com ) रउवा से भी निहोरा बा की एक बार देखि ..हम कहेके चाहत रनी ह की नेपाल में अइसन समस्या नइखे हमर पेज पर हरेक पोस्ट पर लगभग १०० से जादे लाइक आ ५००० से भी जेड जुडल रहेला लोग , लगभग हरेक पोस्ट पर ..हरेक लेख रचना कमती में १००० आदमी से जादे पढ़ेला कमेंट करेला …वोहिसे हम पेज मटेरियल बतोरेलाए रउवा के तलाशत आजयेनी … सायद नेपाल के भोजपुरी हिंदी से बचल रह गिल वोहिसे लोग ईहा लाज न गर्व महसूस करेला भोजपुरी भाषा पर ..बिस्वास ना होई त चेक कर लेम ..धन्यबाद माकिर राउर भी अथक प्रयाश के सत सत नमन बा … जय भोजपुरी

Leave a Reply

%d bloggers like this: