Go to ...

टटका खबर

Online Bhojpuri Newspaper

RSS Feed

Judge expresses his diverse opinion in Ayodhya related case.


One of the three judges bench judge hearing the Ayodhya case, Justice Dharmveer Sharma, has given a diversse judgement other than the two judges who rejected the appeal to pospone the judgement and fined the applicant heavily. According to Justice Sharma they have no right to fine that much amount. He has also said that the parties of the dispute can decide on a mutual settlement before the judgement is announced.

This gives an indication that the actual judgement too may be fractured and dissented. Whole country is waiting for the judgement with abated breath as it will have long lasting implication on the social fabric of the nation.

अयोध्या के विवादित भूमि के मलिकाना के मामिला के सुनवाई करे वाला तीन गो न्यायाधीशन के पीठ के सदस्य न्यायाधीश धर्मवीर शर्मा सोमार का दिने ओह याचिका पर आपन अलगे फैसला सुनवले जवना में मूल मुकदमा के फैसला सुनावे के तारीख आगा बढ़ावे के निहोरा कइल गइल रहुवे. कहले कि याचिका करे वाला पर लगावल जुर्माना के राशियो नियमविरुद्ध बा आ उनका से बिना पुछले दुनु न्यायाधीश आपन फैसला दे दिहले.

अयोध्या के विवादित धर्मस्थल वाला मुकदमा अतना अझूराइल बा कि ओकर फैसला कवनो होखो देश में तनाव बढ़बे करी, घटी ना. लोग के कतनो कहल जाव कि फैसला पर उच्चतम न्यायालय में फेर से विचार करे के रास्ता खुलल बा शरारती तत्व अपना शरारत से बाज ना अइहें. पहिलही से राज्य सरकार आ केन्द्र सरकार में मामिला एक दोसरा का कपारे टारे के कोशिश शुरु हो गइल बा, केन्द्र का मुताबिक कानून व्यवस्था के जिम्मेदारी राज्य सरकार के बा आ राज्यसरकार के कहना बा कि जतना सुरक्षा बल माँगल गइल बा ओतना नइखे मिलल एह से व्यवस्था बनावे राखे में दिक्कत आ सकेला.

%d bloggers like this: