बंसत पंचमी के दिने होखे वाला माइ सरस्वती जी के पूजा खातिर लोग बड़हन-बड़हन आ बढि़या बढि़या पंडाल बनावे खातिर जोर शोर से तइयारी करता। मूर्तियो बनावेवाला दिनराति एक कइले बाड़न स काहें कि मूर्तियन के बहुत ज्यादा मांग हो गइल बा। पता चलल ह कि बलिया के टगुनिया गांव में एगो पंडाल बनत बा जेवना में डेढ़ लाख रूपिया ले लागत बा।

By admin

%d bloggers like this: