नोटबन्दी के मार से नेता परेशान

यूपी चुनाव से पहिले भइल नोटबन्दी के एलान का चलते नेता लोग परेशान हो गइल बा. कुछ दिन पहुले गोरखपुर में भाजपा के खरीदल प्लॉट से 248 गो नया मोटरसाइकिलन धरइली सँ. एह मोटरसाइकिलन प बाकायदा कमल निशान के स्टीकर लागल बा. पहिले सुने में आइल कि भाजपा एह मोटरसाइकिलन से आपन प्रचार करवाई. बाकि नोटबन्दी के माहौल में अतना नगदी आइल कहाँ से ई सवाल उठे लागल त एह मोटरसाइकिलन के केहु दावेदार नइखे मिलत. भाजपा के कहना बा कि मोटरसाइकिल ओकरा जमीन पर मिलल बाकि ओकरा मालूम नइखे कि केकर आ ओहिजा काहे ध गइल. ओकर कहना बा कि हो सकेला कि मोटरसाइकिल कंपनी आपन प्रचार करवाए ला अइसन तिकड़म भिड़वले होखे. सुने में इहो मिलत बा कि भाजपा ओह जमीनो का बारे में कवनो जानकारी होखे से इन्कार करत बिया.

ओने सपा के एगो नेता 786 गो साइकिल खरीदे के कोशिश करत स्टिंग में आ गइल बाड़न. खरीददारी 500 आ 1000 के पुरनका नोट से होखे वाला रहुवे. वइसे 786 के संख्यो धेयान देबा जोग बा. 108 भा 1008 वाला संख्या के कवनो मोल नइखे एह गोल खाति. अब बात खुल गइल त इहो सौदा बीचे में लटक गइल बा.

हाथी मेरे साथी वाली बसपा का बारे में सुनात बा कि केरल से हाथी खरीदाइल बाड़ी सँ पुरनकी नोटन से आ ओह हाथियन के यूपी में घुमावल जाई.

करम फूटल कांग्रेस के. ओकर खाली हाथ नोटबन्दी का बाद सचहूं खाली हाथ हो गइल लागत बा. आ ऊ अब एही खाली हाथ देखा के आपन प्रचार करे के योजना बनवले बिया.

(नोट – एह खबर में अगर कवनो सच्चाई होखी त संजोगे से. सब सुनल सुनावल बात हई सँ.)