भई गति साँप छुछुन्दर जइसी


दिल्ली, 26 मई. कांग्रेस के मौजूदा अध्यक्ष राहुल गाँधी आ पुरनकी अध्यक्षा सोनिया गाँधी का मूड़ी पर लटकल नेशनल हेराल्ड गड़बड़ घोटाला के मामिला आजु नाजुक दौर में चहुँप गइल जब दिल्ली के एडिशनल चीफ जुडिशियल मजिस्ट्रेट डॉ स्वामी के दरखास्त करतो उनुका के एह बाति के इजाजत दे दिहलिं कि स्वामी अपना गवाही में ओह कागजातन के पेश कर सकेलें आ ओकनी के संबंधित अधिकारियन के बोलवा के प्रमाणित करा सकेलें. पिछला दू बरीस से अदालती रस्साकसी चलत आवत रहुवे जवना में सोनिया राहुल के वकील स्वामी के विरोध करत रहलें. साथही अदातल इहो कहलसि कि 21 जुलाई से शुरु होखे वाला बहस आ सगरी मामिला एक बरीस का भितरे निपटा लेबे के पड़ी.
असल में भइल ई रहे कि जब दिसम्बर 2015 में दिल्ली हाई कोर्ट सोनिया राहुल के अदालत में हाजिर होखे के आदेश दिहलसि त ओकरा के रोकवावे ला एह लोग के बकील मंडली हड़बड़ी में सुप्रीम कोर्ट में बहुते तरह के दस्तावेज दाखिल करा दिहलन आ ओही दस्तावेजन का सहारे अब डॉ स्वामी अब एह लोग के कटघरा में खड़ा करावे में सफल हो जइहें.
अगर सोनिया राहुल ओह दस्तावेजन के सही बतइहें त आरोप अपने साबित हो जाई आ अगर झूठ कहीहें त अदालत से झूठ बोले के अपराधी हो जइहें. देखल जाव कि कांग्रेसी वकील मंडली एह कानूनी दलदल से कइसे निकालत बाड़ें सोनिया-राहुल के.