Go to ...
RSS Feed

कुकुरन के चिन्हवा दिहलसि चन्द्रयान-2


भारत के अन्तरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो के मिशन चन्द्रयान-2 अपना अधिकतर मकसद में सफल साबित होखला का बावजूद अपना उपलब्धि के चित्रांकित करे में असफल हो गइल. काहे कि आखिरी मौका पर ओकर लिंक फेल कर गइल आ ऊ विक्रमलैन्डर से ओकरा उतरला के आंकड़ा हासिल ना कर पवलसि.

चन्द्रयान-2 के प्रक्षेपण से लगाइत विक्रमलैन्डर के चन्द्रमा का दक्षिणी इलाका में उतारें में सफल रहल जहाँ आजु ले दुनिया के कवनो देश अपना उपकरण के नइखे उतार पवले. पूरा देश ओह क्षण के बेसब्री से इन्तजार करत रहुवे आ टकटकी बन्हले अपना टीवी पर आँखि गड़वले रहुवे. पीएम मौदी खुद इसरो का सम्पर्क केन्द्र पर हाजिर रहलन. चन्द्रयान-2 अबहीं एक महीना ले चन्द्रमा के लगातार परिक्रमा करत आंकड़ा जुटावे के काम करे में लागल रही.

चन्द्रमा का सतह पर उतरे वाला दुनिया के चउथका देश होखला का बावजूद आखिरी मौका पर लिंक फेल भइला से उपजल निराशा समुझे जोग बा. बाकिर कुछ कुकुर एह असफलता पर आपन खुशी नइखन लुका पावत. एह तरह से सोंची त चन्द्रयान-2 के सबले बड़हन सफलता इहे बा कि ऊ एह तरह के कुकुरन के चिन्हवावे में सफल रहल. एगो कहाउत ह – दमड़ी के चाम गइल, बाकिर कुकुर के जाति चिन्हा गइल.

कुछ कुकुरन के खुशी मनवला का बावजूद पूरा देश आ दुनिया इसरो के सफलता पर गर्वित बा. 100 में 99 नम्बर पावे वाला के कबो फेल ना माने के चाहीं. ओकरा से बस इहे गलती हो गइल कि उत्तर पुस्तिका पर आपन रोल नम्बर ना लिख सकलसि.

पीएम नरेन्द्र मोदी एह पर वैज्ञानिकन के बधाई देत कहलन कि विज्ञान में असफलता ना होखे, बस प्रयोग आ कोशिश होखेला. अबकी ना अगिला बेर सफलता मिलिए के रहे वाला बा. अब अउरी कर्मठता आ जोश से फेरु एह मिशन पर लाग जाए के बा.

Tags: ,

More Stories From देश-दुनिया

%d bloggers like this: