Go to ...
RSS Feed

महामहिमन के शिकायत बा कि लोग बोल कइसे लेत बा


लोकतंत्र के मर्यादा होखेला कि तंत्र लोक का अधीन होखे बाकिर सचाई इहे बा कि तंत्र भरपूर कोशिश में रहेला कि लोक ओकरा अधीन होखे.
अपना देश के न्यायपालिका अपना के सबले ऊपर मानेला. ओकरा पर कवनो बंधन केहू ना डाल सके आ हालात अइसन हो गइल बा कि अब न्यायो के बंधन नइखे रहि गइल न्यायपालिका पर. न्यायमूर्ति लोग अपना मरजी से अपना पसंदीदा लोग के जज बहाल करे के आजादी पता ना संविधान के कवना धारा से ले लिहले बा. प्रतिबद्ध न्यायपालिका के पैरवीकार रहल कांग्रेस अपना कार्यकाल में एह भस्मासुर के खड़ा करा दिहलसि आ अब ई भस्मासुर सभका माथ पर हाथ रखे ला बेचैन हो गइल बा.
अब नया बखेड़ा शुरु कइल जा रहल बा जनता के सचाई जाने का नाम पर. कहल जा रहल बा कि अभिव्यक्ति के आजादी से बड़हन होला सही खबर जाने के आजादी. आ एह मुहिम में सभे अपना अपना स्वार्थ से सहजोग करे में लागल बा. सरकार चाहत बिया कि उहे खबर सामने आवे जवन ओकरा मनमाफिक होखे. मीडिया चाहत बिया कि पहिले का तरह खबरन पर ओकरे कब्जा रहो आ उहे खबर सामने आवे जइसन ऊ चाहत बिया. सोशल मीडिया पत्तलकारिता के सभले बड़ दुश्मन बन गइल बावे. ओकरा चलते मुख्य मीडिया के मनमानी नइखे चलि पावत. न्यायपालिका के शिकायत बा कि सोशल मीडिया न्यायपालिको के नइखे छोड़त आ जजो आ जजी का खिलाफ जम के टीका टिप्पणी होखत बा.
मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति महामहिम एन वी रमना के शिकायत बा कि कवनो ऐरा-गैरा (उनकर शब्द ना ह, बाकिर भावना इहे बा) यू ट्यूब पर आपन चैनल खोल लेत बा आ ओकरा जवन मन करत बा तवना के ऊ प्रसारित कइल शुरु कर देत बा. बिना ओकरा सचाई के पता लगवले भा कवनो मर्यादा के पालन कइले. एह चैनलन पर देखावल जा रहल हर खबर सांप्रदायिक पुट लिहले होखत बा. इहां ले कि एह चैनलन पर न्यायपालिका आ जजो लोग का खिलाफ बकवास कइल जा रहल बा.
आजादी का बाद से इतिहास के तोड़मोड़ के हिन्दू विरोधी हालात बना दीहल गइल रहुवे आ अब जब हिन्दू आपन बाति कहे के आजादी इस्तेमाल करे लागल बाड़ें त सभका शिकायत होखे लागल बा.
बड़का वकीलन के शिकायत बा कि अब ऊ फोने पर जमानत नइखन दिलवा पावत काहें कि जज अब पहिले का तरह आजाद नइखन. उनुको सोशल मीडिया के डर बा.
से जान जाईं कि देर सबेर ई हिन्दू विरोधी गठजोड़ सफल होखे जा रहल बा काहें कि सुप्रीम कोर्ट में जमायते उलेमा ए हिन्द अरजी लगवले बावे कि सोशल मीडिया जमात के बदनाम करे में लागल बा आ ओकरा पर रोक लगावल जाव. पत्तलकारो इहे चाहत बाड़ें, सरकारो के मनसा इहे बा. आ जे रोगिया के भावे से बैदा फरमावे वाला अंदाज में न्यायपालिको गरम लोहा पर हथौड़ा मारे का तइयारी में बा.
बाकिर हमनी के जाने के बा कि सगरी हथौड़ा देर सबेर हमनिए का मूड़ी पर गिरे के बा.

Tags: , , ,

More Stories From देश-दुनिया

%d bloggers like this: