Go to ...
RSS Feed

देश-दुनिया

आईं, हरामखोर भारत बनावल जाय

देश में एह घरी पिछला छह बरीस से मोदी के सरकार चलत बा. मुनव्वर राणा के बतावल सौ करोड़ जानवरन का चलते ओही मुनव्वर के कहला मुताबिक 35 करोड़ आदमियन के ई संकट झेले के पड़त बा. पिछला सैकड़न बरीस के गुलामी का बादो देश के ई सौ करोड़ जानवर माने के तइयार नइखन कि

केकरा से पंगा ले लिहलसि कांग्रेस

पालघाट में हिन्दू साधुवन के मॉब लिचिंग भइला का बाद तीन दिन ले एह खबर के पता केहू के ना भउवे. प्रशासन के कोशिश सफल हो गइल रहीत अगर सोशल मीडिया पर ओह घटना के विडियो वायरल ना हो गइल रहीत. मौकाएवारदात पर मौजूद कवनो आदमी एह विडियो के शूट कइलसि आ ओकरा बाद एकरा

दू गो साधुअन के पीट पीट के मार डललसि शांतिप्रेमी भीड़

शिवसेना के सरकार वाला महाराष्ट्र में मुम्बई से चंद घंटा के दूरी पर एगो कस्बा पालघर में जूना अखाड़ा के दू गो साधुवन आ उनुका गाड़ी के ड्राइवर के शांतिदूतन के भीड़ पुलिस का सोझा मार मार के मुआ दिहलसि. एक तरह से कहीं त पुलिस वाला आह लोगन के घर का भितरी से बाहर

कोरोना आ के दुश्मन चिन्हवा गइल

कोरोना जइसन महामारियो भारत के लोगन ला कुछ काम के बाति क गइल बावे. सवाल इहे बा कि देश को लोग ओकर बाति समुझल कि ना. पहिला बाति कि कोरोना का चलते लोग अपना दुश्मनन के अब आसानी से चीन्ह सकेला. दुश्मन नम्बर एक – ऊ झुँड जवन जमात के नाम लिहला पर आपन नाराजगी

आस्तीन के साँप फेरु दिल्ली दोहरवलें

आजु भोरे दस बजे देशवासियन के संबोधित करत पीएम मोदी लॉकडाउन 3 मई ले बढ़ावे के एलान करत कहलें कि राज्य सरकारन से आ विशेषज्ञन से बाति करि के सरकार इहे सही समुझलसि कि ल़ॉकडाउन 3 मई ले बढ़ा दीहल जाव. पीएम मोदी इहो कहलन कि समय के माँग बा कि सगरी देशवासी एह लॉकडाउन

सब छँवड़ी झूमर पाड़े त लंगड़ी कहे हमहूं

कांग्रेस का माथ पर साँप का तरह कुण्डली मार के बइठल सोनिया परिवार के प्रियंका गाँधी देश में बढ़िया काम करत प्रदेश सरकारन में शामिल यूपी के योगि सरकार के सलाह दिहले बाड़ी कि कोरोना के जाँट में तेजी ले आवल जाय आ अधिका से अधिका लोगन के कोरोना जाँच करावल जाव. मकसद बा कि

कोरोना लॉकडाउन का बारे में केन्द्र सरकार के फैसला

केन्द्र सरकार का तरफ से इशारा दीहल गइल बा कि लगातार तीन दिन ले अगर कोरोना के नया मरीजन के गिनिती घटत जाई तबहिए लॉकडाउन हटावल जाई. जान जाईं कि जस जस 14 अप्रेल नियरात जात बा तस तस लोग के बेचैनी बढ़ल जात बा. लोग जानल चाहत बा कि लॉकडाउन कहिया हटावल जाई. एही

उत्तराखंड के डीजीपी के कड़ाई का बाद तबिलागी जमाती हाजिरी लगवले

उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी कड़ाई से कहले रहलें कि तमात के मरकज में शामिल हो के लवटल लोग अपने से सोझा आ जाव ना त बाद में ओह लोग के मालूम हो जाई कि सरकार कइसे ओह लोग से निबटी. कहलन कि एह लोग पर जान मारे के कोशिश के मुकदमा कइल जाई

बिर्हनी के छत्ता पर ढेला मरलसि मोदी सरकार

आजु मोदी कैबिनेट फैसला कइललि कि सगरी सांसदन के मूल तनखाह में 30 फीसदी के कटौती एही पहिला अप्रेल से लागू क दीहल गइल बा. बाकिर ओह लोग के भत्ता में कवनो कटौती नइखे कइल गइल. एकरा के आसानी से समुझे के होखे त जान जाईँ कि सरकारी कर्मचारियन के तनखाह में कटौती जरुर भइल

खेत खाए गदहा मार खाए जोलहा

आरएसएस से जुड़ल भारतीय मजदूर संघ के ईकाई दिल्ली परिवहन मजदूर संघ डीटीसी बसन के ड्राइवर आ कंडक्टरन पर एफआईआर दर्ज कइला के विरोध कइले बावे. दिपमसंघ के कहना बा कि एहसे कर्मचारियन के मनबल टूटी. एहसे ड्राइवर आ कंडक्टरन का खिलाफ दर्ज मुकदमा रद्द कइल जाव. जाने जोग बा कि साजिशन अफवाह फैला के

जमात के जहालत मुसलमानन के मौत के जरिया बनि गइल

दिल्ली के निजामुद्दीन इलाका में तबलीगी जमात के मरकज देश भर में कोरोना पसारे के जरिया साबित हो गइल बा. एह जमात में शामिल भइल मुसलमानन में कोरोना बीमारी तेजी से पसरे लागल बा आ लोग के मौत के सिलसिला अचानक तेज हो गइल बा. तबलीगी जमात के अमीर मौलाना साद अबहियों फरार बा आ

आजु घरहीं में मनावे के बा श्रीरामनवमी

हर साल श्रीरामनवमी का मौका पर हिन्दू मंदिर जा के श्रीरामजन्मोत्सव मनावत आइल बाड़ें. बाकिर अबकी कोरोना का चलते देश में ल़ॉकडाउन लगा दीहल गइल बा. एह हालात में बाहर निकल के मंदिरन में सामूहिक आयोजन ना कइल जा सकी. श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास रामभक्तों से निहोरा कइले बानी कि

कर्ज अदायगी में तीन महीना के राहत दिहलसि एचडीएफसी बैंक

कोरोना संकट का चलते आम आदमी के राहत देबे ला रिजर्व बैंक कहले रहुवे कि बैंक के कर्ज अदायगी में तीन महीना ले छूट दिहल जाई. ओकरा ला बैंक कर्जदारन के परेशान ना करी आ नाही ओह लोग के क्रेडिट साख खराब कइल जाई. सरकारी बैंक त पहिलहीं एकर एलान क दिहले रहुवें. बाकिर आजु

निजामुद्दीन मरकज के खाली करावे में लागल 36 घंटा

दिल्ली के निजामुद्दीन इलाका के एगो तबलीगी मरकज में हजारन मुसलमानन के शामिल भइला का बाद कई जने के कोरोना ध लिहले बा. सरकार आ प्रशासन के मनाही का बावजूद तबलीगी जमात ई मजमा जुटवले रहुवे. मामिला सामने अइला का बाद एह मजमा में शामिल अनेके लोगन के कोरोना का चपेट में अइला के खबर

रसोई गैस के दाम में बड़हन कटौती

बे सबसिडी वाला गैस सिलिण्डर के दाम में आजु से साढ़े एकसठ रुपिया के कटौती कइल गइल बा. दुनिया भर में तेल आ गैस के दाम में आ रहल गिरावट का चलते ई करे के पड़ल बा. पिछलो महीना पहिला मार्च के एकर दाम में 53 रुपिया के कमी कइल गइल रहुवे. जाने जोग बा

पूरा देश तबिलागी जमात में शामिल लोग के खोजे में लागल

देश में लॉकडाउन के मकसद खतम करत दिल्ली के एगो मरकज में दुनिया भर से मुसलमानन के बिटोरल गइल आ ओहमें से कई एक जने कोरोना बीमारी से ग्रसित रहलें. ई लोग एह जमात में जुटल लोग के इस्लाम के शिक्षा दिहला का साथही कोरोना वायरस के पसारे में जरिया बन गइलें. अब ओह जमात

कउआ कान ले गइल सुनीं त पहिले आपन कान देखीं

आज हिन्दुस्तान में कोरोना के असर कम होखत देखि चाइनीज दलाल आ ओकर पोसुआ मीडिया भाँड़ अफवाह उड़ावे में लागल बाड़ें कि लॉकडाउन आगे बढ़ावल जाई. अइसनका लोगन के एके मकसद बा केहू तरह देश के संयम तूड़ल जाव आ कोरोना के पसरे लायक माहौल बनावल जाव. चीन के दलाली करे में खुलेआम लागल कुछ

जर्मनी के वित्त मंत्री खुदकुशी कइलें ?

क्रिश्चियन डेमोक्रेटिक यूनियन ऑफ जर्मनी के एगो नेता आ जर्मनी के वित्त मंत्री थामस शेफर के लाश रेल लाइन का किनारे मिलल का बाद ओहिजा के सरकार अनेसा जतवले बिया कि कोरोना वायरस से उपजल हालात से परेशान रहलन शेफर आ हो सकेला कि एही अवसाद का चलते ऊ आपन जान दे दिहलन. 22 फरवरी

टटका खबर, अतवार राति 10 बजे, 29 मार्च 2020

अपना मन के बाति कार्यक्रम में आजु पीएम सोदी देश के जनता से माफी मँगलन कि तीन हप्ता के लॉकडाउन से सभका परेशानी झेले के पड़त बा. बाकिर अतना बड़हन आबादी के कोरोना बिपति से बचावेला दोसर कवनो राहो नइखे. जब दुश्मन लउकत ना होखे त लुकाईए गइल बेहतर होला. अगर लॉकडाउन में इचिको कसर

#ArrestKejariwal से सहमल दिल्ली सरकार

बिहारी आ यूपी के प्रवासी मजदूरन का साथे दिल्ली के सरकार चलावत आआपा गिरोह के मयभावत बेवहार देखि के काल्हु पूरा देश आपन नाराजगी जतवलसि. ट्वीटर पर #ArrestKejariwal के मुहिम जोर ध दिहलसि आ राति होखत होखत दिल्ली सरकार आपन चाल पलटि ला मजबूर हो गइल. जान जाईं कि एह प्रवासी मजदूरन का बीच जानबूझि

Older Posts››